कृपया सलाह दें

गत्यात्मक ज्योतिष के आधार पर निकलने वाले मैचों के संभावित विवरणों केा मैं भारत-पाकिस्तान के मध्य होनेवाले मैच के ठीक एक दिन पहले पोस्ट करती आ रही हंू। आनेवाले भारत-ऑस्ट्रेलिया के कुछ मैचों के बाद यानि मेरे दस चिट्ठों में लिखने के बाद ही पाठकों को सही-गलत का फैसला करना था , परंतु पाठकों के उतावलेपन को देखते हुए मुझे थोड़ी जल्दबाजी करनी पड़ रही है। कल के भारत-पाकिस्तान के मध्य हुए अंतिम मैच में मेरी भविष्यवाणी थोड़ी उल्टी पड़ी। मेरे अनुसार जो समयांतराल अच्छा खेलने का था , वहॉ भारत उतनी अच्छी तरह नहीं खेल पाया , जिस समयांतराल में दवाब पड़ना था , वहॉ तो पड़ा , किन्तु जहॉ से मैच में सुधार की उम्मीद थी , वहॉ सुधार न हो सका। हालांकि मैने यह तो लिखा ही था कि 09:45 के बाद यदि भारत को थोड़ी देर और खेलने का मौका मिले और मैच में फासला कम हो तभी भारत जीत सकता है। लेकिन फासला अधिक था और बल्लेबाजों को खेलने का मौका भी नहीं मिला , भारत हार गया। मैच के समाप्त होते ही मुझे कमेंट्स मिले। किन्तु भारत-पाकिस्तान के मध्य हुए चार मैचों में मेरी समययुक्त भविष्यवाणी लगभग सटीक ही हुई थी। उन चारो मैचों में मुझे कोई कमेंट नहीं मिला। जब भविष्यवाणी सही हुई , तो पाठकों ने इसे तुक्का समझ लिया और भविष्यवाणी गलत हुई , तो कमेंट दिया , ऐसा करना किसी भी दृिष्ट से उचित नहीं है। `निंदक नियरे राखिए , ऑगन कुटी छवाय । बिन पानी साबुन बिना निर्मल करे सुभाय´ की तर्ज पर इन कमेंट्सों को मै हमेशा अपने व्यक्तित्व को मजबूत बनाने के लिए आवश्यक समझती आ रही हंू। लेकिन फिर भी प्रशंसा की चाहत मानव स्वभाव का एक अंग है , किसी के आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए आवश्यक भी। क्रिकेट पर मेरा शोध अभी चल ही रहा है , साथ ही मैने आजतक कभी भी कहीं भी लिखित तौर पर क्रिकेट के बारे में भविष्यवाणी नहीं की थी , इसलिए सारे तथ्यों का तालमेल भी कहीं-कहीं नहीं बन पाया और भविष्यवाणियॉ थोड़ी गलत भी हुईं। वास्तव में , अपने ज्ञान को दशाZने के लिए मैंने चिट्ठा लिखना आरंभ नहीं किया था , चिट्ठा लिखने का मेरा मुख्य उद्देश्य लोगों के दिमाग से ज्योतिषीय और धार्मिक भ्रांतियॉ दूर करना था। इसमें मुझे आपका सहयोग चाहिए था ,किन्तु मै देख रही हूं कि आपलोग पूर्वाग्रह से मुक्त ही नहीं हो पा रहे हैं। मैच के मेरे पॉचो चिट्ठों को ध्ौर्यपूर्वक पढ़ने और वास्तविकता से इसका तालमेल करने के बाद आप राय दे कि मुझे मैचों पर चिट्ठा लिखना बंद कर देना चाहिए या फिर इसे जारी रखना चाहिए।

Advertisements

About संगीता पुरी

नाम - संगीता पुरी , उम्र - 42 वर्ष , पढ़ाई - रांची विश्वविद्यालय से एम ए (अर्थ शास्त्र ) , विवाह - १२ मार्च १९८८ को पति - श्री अनिल कुमार ( डी वी सी में कार्यरत ), पुत्र - दो विपुल और विभास , दोनों डी पी एस बोकारो मैं विद्यार्थी , पता - ९४ , को-operative कॉलोनी ,बोकारो स्टील सिटी रूचि - ज्योतिष का गम्भीर अध्ययन-मनन करके उसमे से वैज्ञानिक तथ्यों को निकलने में सफ़लता पाते रहना , जो सिक्षा मुझे मेरे पिताजी ने डी है . प्रकाशित पुस्तकें - १. गत्यात्मक ज्योतिष : ग्रहों का प्रभाव . प्रकाशित लेख - the astrological मैगज़ीन , बाबाजी ,ज्योतिष-धाम आदि में . E-mail - gatyatmak_jyotish@yahoo.co.in
यह प्रविष्टि ज्योतिष में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

4 Responses to कृपया सलाह दें

  1. pryas कहते हैं:

    सगीता जी,

    आपका प्रयास प्रशंसनीय है. आपको चिट्ठा लिखना बिल्कुल बंद नहीं करना चाहिये. यदि आपकी गणना थोडी बहुत गलत हो भी गई तो कोई बात नहीं. आप केवल यह देखिये कि जैसा आपने कहा उसमें से काफी कुछ आपके कहे अनुसार हुआ है और पिछले मैचों मे वह सही भी हुई है. पाठकों की टिप्पणियाँ, क्रिकेट के बारे में और वह भी तब जब भारत मैच हार गया हो तो दुख भरी हो सकती हैं. भारत इसलिये नहीं हारा कि आपकी गणना गलत हुई. आप कृपया लिखती रहें. इससे पाठकों को नई जानकारी सीखने, समझने और पढने के लिये मिलेंगी.

  2. दीपक भारतदीप कहते हैं:

    नहीं आप लिखतीं रहें, ज्योतिष विज्ञान है और अगर इसका कोई सही जानकार हो तो अच्छी बात है, पर समस्या यह है की क्रिकेट एक सामूहिक खेल है और इसमें खिलाडियों के अपने नक्षत्र भी काम करते हैं. बल्ले और गेंद तो बेजान है उनका कोई भविष्य नहीं होता. फिर क्रिकेट के बारे में ज्योतिष की सही भविष्य वाणी पर भी कोई यकीन इसलिए नहीं करेगा क्योंकि टीमें दो हैं औए एक को जीतना है. फिर इसके परिणामो के बारे में किसी ज्योतिष से ज्यादा इसके विशेषज्ञ अधिक जानते हैं. मैं न तो ज्योतिषी हूँ न क्रिकेट का जानकार फिर भी जब एक दिवसीय विश्व कप में टीम भाग लेने जा रही थी तो मैंने अपने लेखों में इसके सेमीफायनल में शक जाहिर किया था और वही हुआ. क्योंकि खिलाडियों के नक्षत्र देखने की जरूरत ही नहीं थी उनके हाव-भाव ही बता रहे थे की वह नहीं जीतेंगे. आप अपने ज्ञान से निरंतर लोगों को निरंतर मार्ग दिखातीं रहें-अच्छी बात होगी.

    दीपक भारतदीप

  3. sanjaygulatimusafir कहते हैं:

    संगीता जी
    नमस्कार

    आशा करता हूँ मेरे ये शब्द आप तक पहुँचेंगे। सबसे पहले आपको आपके लिखने पर बधाई। मुझे एक बात का हर्ष है कि आप कहीं भी अपनी बातों में भटकाने वाली बात नहीं करती। लिखने का तरीका अपना अपना हो सकता है पर कहीं भी मैंने ऐसा नहीं पाया कि मैं यह कहूँ कि आप गलत कर रही हैं।

    मुझे यह लेख सिर्फ इसलिए लिखना पडा क्योंकि आपके ब्लॉग पर उत्तर देने का कोई रास्ता ही नहीं। बाकी भी कई लोग WordPress पर लेख लिखते हैं, कम से कम जवाब देने का रस्ता तो होता है। विचार करें।

    जहाँ तक सवाल है – खेल से संबंधित भविष्यवाणी का। मैं भी Progression & Transit जिसे आप गत्यात्मक ज्योतिष कहती हैं से भली-भांति परिचित हूँ। अगर अभी आपका काम रिसर्च स्तर पर है तो उसे गुपचुप अध्ययन करती रहें। जब रिसर्च कर चुकें तो पूरी जिम्मेवारी उठाकर प्रस्तुत करें। आपका रिसर्च गलत नहीं, पर यूँ आज सही, आज गलत करके आप ज्योतिष का ह्रास कर रही हैं।

    रोज़ भविष्यवाणी भी करना और फिर ‘रिसर्च कर रही हूँ’ जैसे कमजोर शब्द की लाठी पकड लेना। मैंने भी बहुत रिसर्च की है – कई नाकामयाब हुईं, तो कई काम्याब भी। मगर जब कह दिया कि यह रिसर्च पूरी तभी जग-जाहिर किया और इस यकीन के साथ कि लो आज़मा लो।

    आशा करता हूँ आप मेरी बात को प्रोत्साहन के रूप में ही लेंगी। आप प्रतिभावान हैं, तब तक बहुत और विषय हो सकते हैं, जिनपर आप लिख सकती हैं।

    संजय गुलाटी मुसाफिर

  4. Ashok Khatri कहते हैं:

    mari shdie kab hoge shlah dijiay

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s