शीर्षक समेत पूरे अनुच्छेद की नकल

लगभग 30 वर्षों तक परंपरागत ज्योतिष के ऋषियों , महर्षियों और ज्योतिषियों के बनाए सिद्धांतों के घने जंगल में भटकने के बाद विद्यासागर महथाजी को मिला , सटीक भविष्यवाणी कर पाने के सिद्धांतों का एक सरल और सीधा रास्ता , जिसे गति प्रदान करने वाला ज्योतिष समझते हुए उन्होनें `गत्यात्मक ज्योतिष´ का नाम दिया। बुिद्धजीवी वर्ग के मध्य इस ज्योतिष को सहज स्वीकृति मिलने के बाद इस सिद्धांत को पेटेंट कराना आवश्यक समझा गया , पर चूंकि सैद्धांतिक खोजों को पेटेंट कराने का कोई अलग प्रावधान नहीं है , किसी जर्नल में प्रकािशत होते ही यह लेखक के नाम पर सुरक्षित हो जाता है और फलित ज्योतिष जैसा उपेक्षित विषय किसी वैज्ञानिक जर्नल के दायरे में नहीं आता। ऐसी स्थिति में कादम्बिनी के तात्कालीन संपादक श्री राजेन्द्र अवस्थीजी और दिल्ली दूरदर्शन के समाचार विभाग के निदेशक श्री महेन्द्र महर्षिजी के सम्मिलित प्रयास से कादम्बिनी के नवम्बर 1999 के अंक में विद्यासागरजी के सिद्धांतों के निचोड़ को प्रकािशत कर इसे उनके लिए सुरक्षित कर दिया गया। मेरा दावा है कि ये वाक्य या ऐसे रिसर्च इससे पहले ज्योतिष की अन्य किसी पुस्तक में नहीं देखे गए है। कादम्बिनी के नवम्बर 1999 के अंक में प्रकािशत सामग्री की कॉपी , जो नीचे दी गयी है , को पाठक तनिक ध्यान से देखें  , खासकर पृष्ठ 174 के अंडरलाइन किए गए अनुच्छेद को पढ़िए। शीर्षक के साथ-साथ इसमें मार्क किए गए लाइनों को हूबहू 2 जनवरी 2008 को रॉची से प्रकािशत होनेवाले हिंदुस्तान के ज्योतिष-धर्म पृष्ठ पर पं सुधाकरनाथ पाठकजी के द्वारा प्रकािशत किया गया है , इसे भी आप अगले चित्र में देख सकते हैं। उन्होनें इस सामग्री के साथ शान से अपनी फोटो और फोन नं भी प्रकािशत करवाया है। आश्चर्य है , नाम और पैसा कमाने के लिए लोग कितने तिकड़म करते हैं ?

scan10009.jpgscan10011.jpgFGF

Advertisements

About संगीता पुरी

नाम - संगीता पुरी , उम्र - 42 वर्ष , पढ़ाई - रांची विश्वविद्यालय से एम ए (अर्थ शास्त्र ) , विवाह - १२ मार्च १९८८ को पति - श्री अनिल कुमार ( डी वी सी में कार्यरत ), पुत्र - दो विपुल और विभास , दोनों डी पी एस बोकारो मैं विद्यार्थी , पता - ९४ , को-operative कॉलोनी ,बोकारो स्टील सिटी रूचि - ज्योतिष का गम्भीर अध्ययन-मनन करके उसमे से वैज्ञानिक तथ्यों को निकलने में सफ़लता पाते रहना , जो सिक्षा मुझे मेरे पिताजी ने डी है . प्रकाशित पुस्तकें - १. गत्यात्मक ज्योतिष : ग्रहों का प्रभाव . प्रकाशित लेख - the astrological मैगज़ीन , बाबाजी ,ज्योतिष-धाम आदि में . E-mail - gatyatmak_jyotish@yahoo.co.in
यह प्रविष्टि गत्यात्मक ज्योतिष में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

3 Responses to शीर्षक समेत पूरे अनुच्छेद की नकल

  1. Jyoti कहते हैं:

    Can u pleas tell me the meaninf of अनुच्छेद, does it mean the whole artical or does it mean paragraph?

  2. Jyoti कहते हैं:

    Can u pleas tell me the meaninf of अनुच्छेद, does it mean the whole artical or does it mean paragraph?
    Bt the way, i am in brisbane, australia but am originally from Bokaro, that too from Co-operative colony :).
    Thanx

  3. Jyoti कहते हैं:

    Can u pleas tell me the meaninf of अनुच्छेद,

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s