सूर्य स्थिर है न कि पृथ्वी ?

प्रश्न  — धनबाद से श्री राजेश कुमार पूछते हैं कि सौरमंडल में सूर्य स्थिर है तथा अन्य ग्रह इसकी परिक्रमा करते हैं, किन्तु ज्योतिष.शास्त्र यह मानता है कि पृथ्वी स्थिर है और अन्य ग्रह इसकी परिक्रमा करते हैं। जब यह परिकल्पना ही गलत है तो  उसपर आधारित भविष्यवाणी कैसे सही हो सकती है ?

 

 

उत्तर — ज्योतिष.शास्त्र की जानकारी में यह बात है कि सौरमंडल में सूर्य स्थिर है और अन्य ग्रह इसकी परिक्रमा करते हैं। तभी तो इसमें गणना के इतने मानक सूत्र मौजूद हैं। परंपरागत ज्योतिष के साथ ही साथ गत्यात्मक ज्योतिष भी यह मानता है कि जिस पृथ्वी पर हम रहते हैं , वह चलायमान होते हुए भी हमारे लिए स्थिर है और हम अंतरिक्ष की हर वस्तु को चलायमान पाते हैं , ठीक उसी प्रकार , जिस प्रकार हम किसी गाड़ी में चल रहे होते हैं , हम ट्रेन के बाहर हर चीज को चलायमान पाते हैं , क्योंकि ट्रेन हमारे लिए स्थिर होती है और किसी स्टेशन पर पहुंचते ही हम स्वाभाविक तौर पर कहते हैं , ‘अमुक शहर आ गया , जबकि वह शहर वहां नहीं पहुंचता , हम वहां पहुंचते हैं। जिस पृथ्वी में हम रहतें हैं , उसमें हम स्थिर सूर्य के ही उदय और अस्त का प्रभाव देखते आ रहे हैं। इसी प्रकार अन्य आकाशीय पिंडों का भी प्रभाव हमपर पड़ता है , पृथ्वी से किसी खास-खास कोण में स्थित आकाशीय पिंडों से ही हम अच्छे या बुरे रुप में प्रभावित होते हैं , इसलिए हमारे लिए पृथ्वी को स्थिर मानकर ही अन्य ग्रहों की स्थिति का अवलोकण करना आवश्यक है। पृथ्वी से कोई कृत्रिम उपग्रह को किसी दूसरे ग्रह पर भेजना होता है तो पृथ्वी को स्थिर मानकर ही उसके सापेक्ष अन्य ग्रहों की दूरी निकालनी पड़ती है। जब यह सब गलत नहीं होता तो ज्योतिष में पृथ्वी को स्थिर मानते हुए उसके सापेक्ष अन्य ग्रहों की गति पर आधारित फल कैसे गलत हो सकता है ?

(जब से मैनें ब्लाग लिखना आरंभ किया है , तब से पाठकों के बहुत प्रकार के प्रश्न मिल रहे हैं। सभी प्रकार के प्रश्नों के उत्तर देने के क्रम में इस प्रकार के पोस्ट लिखे जा रहे हैं। यदि आपके समक्ष भी ज्योतिष से संबंधित कोई महत्वपूर्ण प्रश्न हो , तो अवश्य भेजें। आपके प्रश्न का भी उत्तर दिया जाएगा।)

 

Advertisements

About संगीता पुरी

नाम - संगीता पुरी , उम्र - 42 वर्ष , पढ़ाई - रांची विश्वविद्यालय से एम ए (अर्थ शास्त्र ) , विवाह - १२ मार्च १९८८ को पति - श्री अनिल कुमार ( डी वी सी में कार्यरत ), पुत्र - दो विपुल और विभास , दोनों डी पी एस बोकारो मैं विद्यार्थी , पता - ९४ , को-operative कॉलोनी ,बोकारो स्टील सिटी रूचि - ज्योतिष का गम्भीर अध्ययन-मनन करके उसमे से वैज्ञानिक तथ्यों को निकलने में सफ़लता पाते रहना , जो सिक्षा मुझे मेरे पिताजी ने डी है . प्रकाशित पुस्तकें - १. गत्यात्मक ज्योतिष : ग्रहों का प्रभाव . प्रकाशित लेख - the astrological मैगज़ीन , बाबाजी ,ज्योतिष-धाम आदि में . E-mail - gatyatmak_jyotish@yahoo.co.in
यह प्रविष्टि पाठकों के प्रश्न में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

14 Responses to सूर्य स्थिर है न कि पृथ्वी ?

  1. Isht Deo Sankrityaayan कहते हैं:

    पहली तो बात यह कि सूर्य के स्थिर होने की मान्यता ज्योतिष की नहीं पश्चिम के धर्मशास्त्रों की है. दूसरी बात यह कि विज्ञान की यह मान्यता भी मुझे सही नहीं लगता. ऊर्जा का स्वभाव है गति और उसका एक निश्चित स्रोत है ऊष्मा. सूर्य ऊर्जा का महापिंड है, इसमें कोई विवाद नहीं है. फ़िर ऐसा हो कैसे सकता है कि वह स्थिर हो? शायद हमारा विज्ञान अभी सूर्य के सम्बन्ध में सही निर्णय तक पहुंचा नहीं है. वैसे वैज्ञानिक ऐसा कोई दावा भी नहीं करते. ऐसे दावे सिर्फ़ वे तर्कशास्त्री करते हैं, जिन्हें सिर्फ़ अपनी बात ऊपर रखने का कोई उपाय चाहिए. विज्ञान तो हर सन्दर्भ में सतत खोज में लगा होता है और वह इस सन्दर्भ में लगा ही होगा.

    जबाब.- सांकृत्यायनजी ,मैने सौरमंडल में सूर्य के स्थिर होने की बात की , अनंत ब्रह्मांड में सूर्य के स्थिर होने की नहीं।

  2. Pankaj कहते हैं:

    Sir pandit g kaya aap my future ka bara mea bata skta ho ke my job lagaga ya nahi pvt.ya sarkari

  3. Pankaj bhardavaj कहते हैं:

    My future ka bara mea batjaya ke my job kab aur kha lagaga aur sarkari ya pvt.

  4. Putaan कहते हैं:

    Sir kya mai polytechnic karana k baad govt mai job lagagi ya private mai

  5. Vimal yadav कहते हैं:

    Sar m bahut paresan hu mujhe meri nokari m koi labh nahi

  6. suresh kumar कहते हैं:

    Mera janm 12.6.1979 ko saym ko hou merya kam thik nie chalta koy upia bhtio

  7. sushant sahu कहते हैं:

    mai aane wale time me gov. . Job krunga ya priveat job plz tell me sir

  8. ajay panesar कहते हैं:

    my d o b 22-06-1971 time 12:30 night tuesday samrala(ludhiana)punjab i m always failed in my life all of field i m very sading in these day pl give me u r advice

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s