जनसामान्य को राहत मिलने के आसार

हिन्दी में ब्लागिंग करनेवाले सभी भाई.बहनों को मेरा नमस्कार। पारिवारिक और अन्य जिम्मेदारियों के कारण मुझे ब्लागिंग की दुनिया से दूर हुए दो.चार महीनें ही हुए हैं, पर ऐसा लग रहा है, मानो अर्सा हो गया विचारों के आदान प्रदान का रसास्वादन किए। पिछले वर्ष सितम्बर माह में ही मैनें इस मनोरंजक , ज्ञानवर्द्धक और हिन्दी.प्रेमियों की इस दुनिया में प्रवेश किया था , पर इस वर्ष फरवरी के बाद से ही किसी न किसी प्रकार की बाधा के उपस्थित हो जाने से निरंतरता में रूकावट आती रही। दस दिन पहले ही दिल्ली से वापस लौटना हुआ , इस बीच कई बार देर रात तक आलेखों को पढ्ती रही , कुछ टिप्पणिया भी कर डाली , पर नयी पोस्ट कर पाने के लिए निश्चंति नहीं हो पायी।

पिछले दो.तीन महीनों में मेरे समक्ष कई प्रकार की मुसीबतें आयीं ,परिवार के एक.एक सदस्यों को सब कामकाज छोड़कर छुट्टी लेनी पड़ी। । मेरे अपने जीवन के हिसाब से ये मुसीबतें बड़ी ही थी , क्योंकि ईश्वर की दया से मैने मुसीबतें देखी ही नहीं है और इस बार आयी तो अचानक से डबल.ट्रिपल होकर। आज भी ईश्वर का शुक्र है, सब कुछ सामान्य हो गया, समय और पैसों के अलावा कोई नुकसान नहीं हुआ। समय महत्वपूर्ण तो होता है,पर यदि सही उपयोग किया जाए, तो दो.चार महीनें या वर्षभर की कमी इतने लम्बे जीवन में कोई मायनें नहीं रखती। पैसा भी तो आने.जाने वाली वस्तु है , किसी के पास ठहरनेवाली नहीं , इसलिए उसका नुकसान भी मायने नहीं रखता है। यही सब सोंच संतोष देने के लिए काफी है। मै ग्रहों के जड़.चेतन पर पड़नेवाले प्रभाव से संबंधित विषय यानि ज्योतिष की विशेषज्ञा हूं। इस क्षेत्र में 20 वर्षों से अध्ययनरत हूं , मानती थी कि ग्रहों का प्रभाव मनुष्य पर पड़ता है, पर इतना अधिक , इतनी तीव्रता से , इस हद तक ,इसका अंदाजा भी न था।

पिछले दो महीनें से मंगल शनि के साथ सिंह राशि में युति करते हुए भारी तबाही मचा रहा था। कहीa आग लग रही थी , कहीं आकस्मिक दुर्घटना , तो कहीं बम ही फट रहे थे। लोगोa के क्रोध को भड़काने में भी मंगल.शनि की बड़ी भूमिका होती है , जिसके कारण भी कहीं मार.काट , कहीं उपद्रव , तो कहीं घरेलू मामलों में भी अशांति मची थी। हालांकि 23 अगस्त तक बुध और 25 अगस्त तक शुक्र के सिंह राशि में बनें रहने से समस्याओं कs पूर्ण तौर पर सुधरने की बहुत कम संभावनाएं हैं , पर आज से ही काफी राहत की बात इसलिए हो जाएगी , क्योंकि आज ही मंगल शनि का साथ छोड़कर कन्या राशि में जा रहा है। कम से कम उनलोगों को तो अवश्य , जो पिछले दो महीने से किसी न किसी समस्या से जूझ रहे हैं , जबकि जन्मकुंडली के हिसाब से कोई स्थायी परेशानी नहीं होनी चाहिए।

 

Advertisements

About संगीता पुरी

नाम - संगीता पुरी , उम्र - 42 वर्ष , पढ़ाई - रांची विश्वविद्यालय से एम ए (अर्थ शास्त्र ) , विवाह - १२ मार्च १९८८ को पति - श्री अनिल कुमार ( डी वी सी में कार्यरत ), पुत्र - दो विपुल और विभास , दोनों डी पी एस बोकारो मैं विद्यार्थी , पता - ९४ , को-operative कॉलोनी ,बोकारो स्टील सिटी रूचि - ज्योतिष का गम्भीर अध्ययन-मनन करके उसमे से वैज्ञानिक तथ्यों को निकलने में सफ़लता पाते रहना , जो सिक्षा मुझे मेरे पिताजी ने डी है . प्रकाशित पुस्तकें - १. गत्यात्मक ज्योतिष : ग्रहों का प्रभाव . प्रकाशित लेख - the astrological मैगज़ीन , बाबाजी ,ज्योतिष-धाम आदि में . E-mail - gatyatmak_jyotish@yahoo.co.in
यह प्रविष्टि सामयिक में पोस्ट की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

4 Responses to जनसामान्य को राहत मिलने के आसार

  1. Dharmendra Kant कहते हैं:

    Can u make a prediction when this useless cetral govt go?

  2. awadhesh kumar कहते हैं:

    dear sreemanji namaste
    date of birth 11/06/1974 at 02:30am
    jindgi se paresan huan rozi roti ke liye dar v dar bhatak raha hun magar koi kamyabi nazar nahi mil pa rahi hai iske sth sath mai mired bhi hun mera eh 07 saal k ldk bhi ha kirp kar ke mera samsya ka nidan kare sastang pranam aap ka awadhesh

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s